Sunn Zara Lyrics Songs – JalRaj

0
32

Sun Zara Mp3 Songs

Sunn Zara Lyrics by JalRaj is a brand new Hindi song with music given by Anmol Daniel. The song lyrics are written by Pankaj Dixit and the music video is directed by Ritika Bajaj. Cast Shivin Narang, Tejasswi Prakash.

Sunn Zara Song Details

Song Name:Sunn Zara
Singer:JalRaj
Lyrics Writer:Pankaj Dixit
Composer:Anmol Daniel
Music Production:Anmol Daniel
Guitars:Shomu Seal
Mixed and Mastered By:Himanshu Shirlekar
Cast:Shivin Narang , Tejasswi Prakash
Music Directed By:Ritika Bajaj
Music Label:Indie Music Label

Sun Zara English Lyrics Songs

I hope hum
Hum phir kabhi na milein

Sunn zara arziyan main maangta hoon
Mere khuda se teri
Sunn zara khwab meri neend mein bhi
Karte hain baatein teri

Sau bar khuda se maanga hai
Mannat ka tu woh dhaaga hai
Tu pyar ke badle mein
Apni yaadein de gaya

Main ghair tha tere liye
Phir mujhe sapne kyun de gaya
Main ghair tha tere liye
Phir mujhe sapne kyun de gaya

Hathon ki lakeerein bikhri huyi hain
Kismat mein jaane kya likha
Kash tu kahin se mil jaaye mujhko
Sajde main karta sir jhuka

Main yaad mein teri har lamha
Arse se khud mein rehta hoon
Tu khwahishon se badhkar
Jhoothe vaade de gaya

Main ghair tha tere liye
Phir mujhe sapne kyun de gaya
Main ghair tha tere liye
Phir mujhe sapne kyun de gaya

Main ghair tha tere liye
Phir mujhe sapne kyun de gaya
Main ghair tha tere liye
Phir mujhe sapne kyun de gaya

I hope hum
Hum phir kabhi na milein
I hope aisa hi ho

Main ghair tha tere liye
Phir mujhe sapne kyun de gaya

Sun Zara Hindi Lyrics Song

आइ होप हम
हम फिर कभी न मिलें

सुन्न ज़रा अर्ज़ियाँ में मांगता हूँ
मेरे खुदा से तेरी
सुन्न ज़रा ख्वाब मेरी नींद मांगता हूँ
करते हैं बातें तेरी

सौ बार खुदा सा मांगता है
मन्नत का तू वो धागा है
तू प्यार के बदले में
अपनी यादें दे गया

में ग़ैर था तेरे लिए
फिर मुझे सपने क्यूँ दे गया
में ग़ैर था तेरे लिए
फिर मुझे सपने क्यूँ दे गया

हाथों की लकीरें बिखरी हुयी हैं
किस्मत में जाने क्या लिखा
काश तू कहीं से मिल जाये मुझको
सजड़े में करता सिर झुका

में याद में तेरी हर लम्हा
अरसे से खुद में रेहता हूँ
तू ख़्वाहिशों से बढ़कर
झूठे वादे दे गया

में ग़ैर था तेरे लिए
फिर मुझे सपने क्यूँ दे गया
में ग़ैर था तेरे लिए
फिर मुझे सपने क्यूँ दे गया

में ग़ैर था तेरे लिए
फिर मुझे सपने क्यूँ दे गया
में ग़ैर था तेरे लिए
फिर मुझे सपने क्यूँ दे गया

आइ होप हम
हम फिर कभी न मिलें
आइ होप ऐसा ही हो

में ग़ैर था तेरे लिए
फिर मुझे सपने क्यूँ दे गया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here